स्वार्थ त्याग की कठिन तपस्या, बिना खेद जो करते हैं ऐसे ज्ञानी साधु जगत के दुख-समूह को हरते हैं। महायोगी, शाकाहार प्रवर्तक गुरुदेव गुप्तिसागर महाराज के 39वे दीक्षादिवस पर समाज को बधाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *